Loan कितने प्रकार के होते है | Types of Bank Loans in India

Types of Loan In India

Types of Bank Loans In India : हेल्लो दोस्तों कैसे है आप सब मुझे उम्मीद है आप सब बढिया होंगे आज मै इस पोस्ट मै आपको बताऊंगा की लोन कितने प्रकार के होते है जैसे की आपको पता ही होगा लोन की जरूरत हमे कभी ना कभी पड़ जाती है | जब भी हमे लोन की जरूरत पड़ती है तोह हम बैंक या फाइनेंसियल इन्स्तितुतिओन से लेते है और हमे यह लोन ब्याज सहित वापस देना पड़ता है तो आयिए दोस्तों हम आपको बताते है की लोन कितने प्रकार के होते है (Types of Bank Loans in India )

Types of Bank Loan in India according to time period

  1. short term loan (शोर्ट टर्म लोन): इस प्रकार के लोन को चुकाने का टाइम पीरियड एक साल का होता है
  2. medium term loan(मध्यम टर्म लोन): इससे प्रकार के लोन को चुकाने का टाइम पीरियड एक से तीन साल का होता है
  3. long term loan(लॉन्ग टर्म लोन): इस प्रकार के लोन का टाइम पीरियड 3 साल से ज्यादा का होता है

Types of Bank Loan In india

1. Gold Loan(गोल्ड लोन): आयिए हम बात करते है पहले टाइप ऑफ़ लोन की जोकि है गोल्ड लोन इस प्रकार का लोन होता जिसमेह आप बैंक मै जाकर अपने घर पर रखे सोने यानी गोल्ड के आभूषण को गिरवी रखकर लोन ले सकते है | इससे प्रकार के लोन मै आपको राशि आपको आपके गोल्ड की वैल्यू और क्वालिटी हिस्साब से दी जाती है| आपको आपके आभूषण की वैल्यू का 80% रकम आपको लोन दिया जाता है | यह लोन आमतोर पर लोग जब इमरजेंसी मै लेते है इस लोन मै ब्याज हमेसा personal loan से कम होता है जोह हम आपको बताएँगे इससे बाद की personal लोन क्या होता |आज के टाइम मई गोल्ड लोन का ब्याज SBI बैंक 7.50 % है और hdfc बैंक 9.50 % है

2. Personal Loan( पर्सनल लोन): यह एक और प्रकार का लोन है जोह हम खुद के लिए लेते है यह एक गैर जमानत लोन है वैसे तोह हम सभी लोन अपने लिए लेते है पर personal loan वोह लोन होता है जोह अपने personal कामो के लिए होता है जैसे की स्कूल की fees देनी हो या कुछ महंगी चीज़ लेनी हो आदि ऐसे लोन लेने के लिए हर बैंक मई अलग अलग interest rate होता है जैसे की आजकल sbi bank का personal loan interest rate hai 9,60 % hai और icci bank का interest rate 12.60% hai | वैसे personal loan का interest rate बाकी सब लोन से ज्यादा होता है वैसे आपको पता है की personal लोन के लिए बैंक ज्यादा डॉक्यूमेंट नही मांगती है बस आपकी सैलरी स्लिप देखकर loan मिल जाता है|

3. Property loan(प्रॉपर्टी लोन): यह एक और टाइप का लोन होता है जोह हमे तब मिलता है जब हम property ले कागजों को गिरवी रखकर लेते है बैंक से यह लोन ज्यादा से ज्यादा 15 साल के लिए मिल सकता है इससे हम loan againt property भी कहते है आमतोर पर हमे यह लोन अपनी property की वैल्यू का 40% se 50% तक भी मिल जाता है इसका interest rate sbi मै 6% तक का है

4 Home Loan : घर खरीदने के लिए जोह लोन लिया जाता है वोह home लोन होता है यह लोन सिर्फ घर खरीदने के लिए नही बल्कि घर बनाने की कीमत घर का रजिस्ट्रेशन स्टंप ड्यूटी आधी सब का मिलकर जितना खरचा होता है उस सब को मिला जोह लगता है वोह सब ले सकते है लोन | जोह बैंक होता है वोह घर बनाने का कुल खरचा जोह होता है उसका 70%-80% का बैंक से लोन ले सकते है इसके अलावा पैसो का जुगाड़ आपको खुद करना होगा | उधारण के तोर पर आप एक प्लाट लेना है उसकी कीमत 20 लाख है इसके लिए आपको 20 लाख का 30% तक जमा कराना होगा यानी की 6 लाख रुपए | बाकी पैसा आपको बैंक देगा| इस लोन को आप 5 से 20 साल के बीच मै चूका सकते है| आपलो ब्याज के अलावा और भी चार्जेज देने होते है जैसे की प्रोसेसिंग फीस,लीगल फीस असेसमेंट फीस आधी|

5. CAR loan: जब भी आप कोई वाहन खरीदने के लिए कोई लोन लेना होता है तो आपको वाहन यानी की कार लोन मिलता है इस लोन को हम कार लोन बोलते है | आपको यह लोन एक फिक्स्ड या फ्लोटिंग रेट पर दिया जाता है | फिक्स्ड रेट हम उस रेट को कहते है जिस टाइम आप लोन ले रहे होते हो उस टाइम जोह आपको interest rate दिया जाता है उससे रेट पर आपको उस पुरे लोन का भुगतान करना होता है | Floating(फ्लोटिंग) rate वोह होता है जोह टाइम के साथ साथ बदलता रहता है कभी बढता है कभी कम होता है उस rate के हिसाब से आपको ब्याज भुगतान करना पड़ता है | जब तक आप कार लोन का पूरा पैसा बैंक को नही पे कर देते तब तक बैंक ही मालिक होता है कार का |

6. एजुकेशन लोन: यह लोन स्टूडेंट लोग के द्वारा लिया जाता है अपनी मनपसंद यूनिवर्सिटी से पढाई करने के लिए | कही छात्र विदेश मै जाकर पढाई करना चाहते है तोह वोह यह लोन बैंक से लेते है | एजुकेशन लोन देने से पहेले बैंक एक फिक्स्ड repayment डिफाइन टाइम करना होता है | बैंक लोन उसको देती है जोह उससे वापस कर सकता हो | बैंक दो तरह से यह जान सकती है की स्टूडेंट लोन पे कर सकता है या फिर नही | या तो स्टूडेंट के गार्डियन की इनकम को देखा जाता है या फिर लोन लेने वाले स्टूडेंट किस्से यूनिवर्सिटी मै जा रहे है उस यूनिवर्सिटी की परफॉरमेंस को देखा जाता है | एजुकेशन लोन लेने के लिए स्टूडेंट को एक गारंटर की जरूरत होती है | यह स्टूडेंट का कोई भी जान पहचान का हो सकता है | आजकल जोह sbi बैंक होता है वोह एजुकेशन लोन 7.50 lakh से ऊपर के लिए 10,70 % या फिर 7.50 lakh तक के लिए 9.95% तक का सालाना ब्याज लेती है |

7. Corporate Loan(कॉर्पोरेट लोन): बैंक जब बड़े बिज़नस यानी की जैसे रिलायंस इंडस्ट्रीज ,टाटा ग्रुप और भी बहुत सारे बड़े बिज़नस कॉर्पोरेट को जब भी लोन देता है तोह उससे हम कॉर्पोरेट लोन कहते है | अभी जोह नियम है उसके अनुसार बैंक ऑफ़ कोर कैपिटल (कोर कैपिटल) का 25 % तक का लोन किसी एक बड़ी कंपनी को लोन के रूप मै दिया जाता है | हाल ही मै कही डिफ़ॉल्ट केसेस जैसे की विजय मालिया की किंगफ़िशर एयरलाइन्स को देखते हुए RBI ने 25 % वाला नियम jan 2019 से किया है

दोस्तों आशा करते है की आपको ये ‘Types of Bank Loans In India ‘ का यह आर्टिकल पसंद आया होगा इसमें हमने पूरी जानकारी देने की कोशिश की है की फाइनेंसियल इंस्टिट्यूट कितने प्रकार के लोन देती है

2 comments

Leave a Reply